Shanidev will set on 11th February 11 फरवरी को शनिदेव होंगे अस्त, इन राशियों को मिलेगा अच्छा लाभ

Shanidev will set on 11th February

11 फरवरी 2024 को शनि देव कुंभ राशि में अस्त होंगे। यह घटना 30 सालों बाद हो रही है। ज्योतिष शास्त्र में शनि देव को कर्मफल दाता और न्याय का देवता माना जाता है शनि देव का अस्त होना कुछ राशियों के लिए लाभदायक होगा, तो कुछ राशियों को सावधान रहना होगा। Shanidev will set on 11th February

लाभकारी राशियां:

  • मेष: करियर में उन्नति, नौकरी में तरक्की, धन लाभ, स्वास्थ्य में सुधार, परिवार में खुशी, और मान-सम्मान में वृद्धि।
  • कर्क: पारिवारिक जीवन में सुधार, धन लाभ, संतान से सुख, रुके हुए काम पूरे होंगे, और स्वास्थ्य में सुधार होगा।
  • वृश्चिक: धन लाभ, पैतृक संपत्ति का लाभ, शिक्षा में सफलता, किसी मित्र के सहयोग से लाभ होगा।
  • कुंभ: करियर में लाभ, रुका हुआ धन प्राप्त होगा, संपत्ति का लाभ, जीवनसाथी का सहयोग मिलेगा।

सावधान रहने वाली राशियां:

  • मिथुन: स्वास्थ्य में गिरावट, धन हानि, यात्रा में परेशानी, और परिवार में कलह हो सकती है।
  • तुला: व्यापार में नुकसान, नौकरी में परेशानी, स्वास्थ्य में गिरावट, और मानसिक तनाव हो सकता है।

उपाय:

  • शनि देव को प्रसन्न करने के लिए शनिवार को हनुमान जी की पूजा करें।
  • शनि चालीसा का पाठ करें।
  • सरसों के तेल का दीपक जलाएं।
  • काले कपड़े, उड़द की दाल, और लोहे का दान करें।Shanidev will set on 11th February

यह भी ध्यान रखें:

  • ज्योतिष शास्त्र में व्यक्तिगत कुंडली का भी महत्व होता है।
  • शनि देव का अस्त होना सभी जातकों को समान रूप से प्रभावित नहीं करेगा।
  • यदि आपको कोई परेशानी हो रही है, तो ज्योतिषी से सलाह लें।Shanidev will set on 11th February

निष्कर्ष:

11 फरवरी को शनि देव का अस्त होना कुछ राशियों के लिए लाभदायक होगा। यदि आप इन राशियों में से एक हैं, तो यह आपके लिए एक अच्छा समय होगा।

नोट: यह जानकारी सामान्य ज्योतिष शास्त्र पर आधारित है। व्यक्तिगत कुंडली के अनुसार फल भिन्न हो सकते हैं।

नोट///यह लेख केवल जानकारी हेतु दिया जा रहा है इस साधना से होने वाले लाभ या नुकसान के बारे में हमारी वेबसाइट https://maakalitantra.com/ की जिम्मेदार नहीं होगी |

Join WhatsApp GroupClick Here
Join TelegramClick Here
ALSO READ –परी जिन्नात अप्सरा को सामने देखना ||परी जिन्नात अप्सरा साधना

Leave a Comment